भक्त की पुकार पर तुरन्त मदद करते महावीर
September 6, 2019 • धमेन्द्र सक्सेना

भक्त की पुकार पर तुरन्त मदद करते महावीर

          यह चमात्कारिक घटना लगभग दो वर्ष पहले की है। हिन्दुस्तान की धरती पर जन्में डॉ. रमाशंकर द्विवेदी जो आज अमेरिका में वैज्ञानिक है ''हनुमान जी के अनन्य भक्त हैं, मुझे भी हनुमान जी की भक्ति करने का श्रेय उन्हीं को है। डॉ. साहब अपनी धर्मपत्नी श्रीमती अरुणा के साथ हिन्दुस्तान आये थे। लखनऊ से हम लोग दो और भक्तों के साथ बाबा विश्वनाथ जी का दर्शन करने के लिए वाराणसी गये थे। वाराणसी से वापस लौटते समय प्रयागराज के मार्ग मे माँ विन्ध्यवासिनी के दर्शन की इच्छा हुई वाराणसी से प्रयागराज के मध्य गोपीगंज बाजार से माता के मन्दिर का रास्ता है जो18 किमी. है। गोपीगंज बाजार में ही डॉ. साहब से परिचित डॉ. बघेल का औषधालय हैं। हम लोग उनसे मिले और माता के दर्शन के लिए निकल पडे़। वो 18 किमी. का रास्ता बहुत ही खराब था। ऊबड, खाबड़ रास्ता होने के कारण हम लोग लगभग एक घंटे में माता जी के मन्दिर पहुंचे। दर्शन के बाद हम लोगों को उसी रास्ते लौटना था। जैसे ही हम लोग दो से तीन किमी. चले होंगे भाभी जी ने कहा धर्मेन्द्र अभी हाईवे पहुंचने में कितना समय लगेगा, रास्ता इतना खराब हे कि कमर में बहुत दर्द हो रहा है। 10 मिनट के बाद हमें अपने सामने चौड़ी एकदम नई रोड़ नजर आने लगी। मेरी कार की स्पीड़ जो 20 से 30 पर चल रही थी 80-90 हो गयी। हम पांचों लोग आश्चर्य चकित थे कि अभी दो घंटे पहले हम लोग इसी सड़क से होकर आये थे। ये तो बहुत खराब थी। रास्ता भटकने के संशय से हमने गाड़ी किनारे लगायी एक साइकिल वाले आदमी से पूछा कि भाई गोपीगंज का रास्ता यहीं है क्या, उसने कहा हाँ भाई सीधे चले जाइये कहीं मुड़ना नहीं है। कुछ दूर चलने के बाद पुनः रास्ते की जानकारी एक दूसरे व्यक्ति से की, उसका भी वहीं उत्तर था।
            हम सभी लोग अचंभित थे। हमने सोचा कि देखता हूँ जिस रास्ते हमने इन्ट्री किया था ये वही निकलता है कि कही और। जैसे ही हम हाईवे के नजदीक पहुंॅचे हमें डॉ. बघेल का औषधालय दिखाई पड़ा। तब तो हम सभी को पूर्ण विश्वास हो गया कि हे प्रभु आपने तो हम भक्तों के लिए नई रोड़ तैयार कर दी। ये जीवन की अविस्मरणीय घटना है जिसके बारे में सोचने पर आज भी मन द्रवित व प्रफुल्लित हो जाता है। इसी तरह कृपा करते है स्वयं हनुमान जी महाराज।
जय जय सीता राम। 

...............................
धमेन्द्र सक्सेना
लखनऊ