वन्दना
August 10, 2019 • सूर्य प्रकाश दूबे

वन्दना

गुरु ग्रंथन का सार है, गुरु है ईश्वर नाम । 
गुरु अध्यात्म प्रदीप है, गुरु हैं चारों धाम ।। 
गुरु अनंत तक जानिए, गुरु का ओर न छोर। 
गुरु प्रकाश का पुंज है, निशा बाद ज्यों भोर ।। 
गीली मिट्टी अनगढ़ी, मुझको सद्गुरु जान । 
अंतर्मन निर्मल करो, तुम समर्थ बलवान ।।
मन अधीर अतिसय व्यथित, अंधकार अति घोर । 
कृपा ज्योति प्रज्ज्वल करो, विनय करूँ कर जोर ।। 
बिनु गुरु ज्ञान न उपजै, कहे वेद विज्ञान । 
महिमा अमित अपार गुरु, बरनत संत सुजान ।। 
जिन्हके घट अन्तर्हृदय, निज गुरु प्रीति अपार । 
तिन्हको कछु दुर्लभ नहीं, विगत सकल संसार ।।
गुरु बिनु संकट ना कटे, गुरु बिनु दिशा अजान । 
गुरु बिनु दुर्लभ चारि फल, गुरु बिनु मिले न मान।। 
जिस पर हो गुरु की कृपा,सब हो पूरण काम । 
गुरु की सेवा से मिले, पारब्रह्म सुखधाम।।
गुरुवर को हिय राखिए, गुरु संकट की ढाल ।
हर अवगुण, सद्गुण करें, मिटे घोर भ्रमजाल ।।

..............................................
सूर्य प्रकाश दूबे

दिल्ली